What is प्रश्नावली (Questionnaire) in Sociology – समाजशास्त्र में प्रश्नावली क्या होती है ?

  What is  (Questionnaire) in Sociology – समाजशास्त्र में प्रश्नावली

(साक्षात्कार) – Social interview in Social Research Types and Methods in Hindi


प्रश्नावली Questionnaire अनुसूची की तरह प्रश्नों की एक क्रमबद्ध तालिका होती है। जिसे डाक द्वारा भेज कर विशाल क्षेत्र में पहले उत्तर दाताओं से सूचना एकत्रित करने के लिए उपयोग की जाती है।

जब तक दाता विस्तृत क्षेत्र में फैले हुए होते हैं तब प्रश्नावली का अत्यंत उपयोग में लाया जाता है सामाजिक अनुसंधान को सफल बनाने के लिए।

ऐसी स्थिति में प्रश्नावली ही एकमात्र ऐसी विधि है जो कम खर्च एवं कम समय में बिखरे हुए उत्तरदाताओं से तथ्य संकलित करने में मदद देती है। 

प्राया प्रश्नावली को डाक द्वारा उत्तर दाताओं के पास भेजा जाता है। प्रश्नावली को डाक द्वारा भेजा जाता था लेकिन नजदीक होने पर इसे हाथों-हाथ भी विस्तृत कर दिया जाता है।

तथ्य संग्रहण के रूप में इसे एक अच्छी विधि मानी जा सकती है जो कि सामाजिक अनुसंधान में एक असरदार प्रभाव डालती है।

यह प्रश्नों की एक ऐसी तालिका है जिसमें समस्या के विभिन्न पक्षों पर काफी सोच विचार कर प्रश्नावली तैयार की जाती है। 
परिषद द्वारा उत्तर दाताओं के पास भेजा जाता है जो उसे स्वयं भरकर लौटा देते हैं कभी-कभी इसे केवल एक अनुसंधान यंत्र के रूप में प्रयोग किया जाता है।

Also read the suggested articles


प्रश्नावली की विशेषताएं / Features of Questionnaire

  1. समाजशास्त्र अनुसंधान में प्रश्नावली अध्ययन विषय से संबंधित सूचना एकत्रित करने का एक प्रमुख यंत्र है
  2. प्रश्नावली का प्रयोग प्राया तक किया जाता है जब समस्या से संबंधित उत्तर दाता दूरदराज के क्षेत्रों में बिखरे हुए होते हैं
  3. प्रश्नावली में समस्या पर प्रकाश डालने के लिए समस्या के सभी पक्षों से स्पष्ट और सरल भाषा में तैयार किए हुए प्रश्नों को भी पूछा जाता है।
  4. इस विधि का प्रयोग केवल साक्षर उत्तर दाताओं के बीच किया जाता है
  5. प्रश्नावली का आकार छोटा होता है और सारी जानकारी हमें प्राप्त नहीं हो पाती।
  6. प्रश्नावली के प्रथम पृष्ठ पर उस संगठन का नाम होता है जिसके द्वारा अध्ययन करवाया जा रहा है


प्रश्नावली की सीमाएं / Limitations of Questionnaire

  • प्रश्नावली प्रविधि में प्रतिनिधित्व निर्देशों का चुनाव नहीं किया जा सकता है।
  • प्रश्नावली को भरने से प्राया सूचना दाता अधिक दिलचस्पी नहीं लेते हैं। क्योंकि उससे उनके किसी स्वार्थ सिद्धि की आशा नहीं करती है
  • पत्र द्वारा भेजी गई प्रश्नावली ओं में से कम संख्या में प्रश्नावली ओके उत्तर लौट कर वापस आते हैं
  • इस विधि में अनुसंधानकर्ता सूचनादाता से बहुत दूर होता है
  • प्रश्नावली में ऐसे प्रश्न हो सकते हैं जिसे उत्तर दाता एक बार में ठीक से समझ नहीं पाता
  • प्रश्नावली में अनुसूची की भांति ही ऐसे प्रमाणित सार्वभौमिक प्रश्नों के समूह होते हैं
  • प्रश्नावली में कई बार देखा गया है कि उत्तर दाता की लिखावट अधिकांश क्षेत्रों में बहुत होती है।
  • प्रश्नावली विधि का प्रयोग समस्या से संबंधित सूचनाओं को एकत्रित करने में किया जा सकता है।


प्रश्नावली का महत्व / Importance of Questionnaire

  • इसकी बड़ी उपयोगिता यह है कि बड़े क्षेत्र का अध्ययन आसानी से किया जा सकता है
  • प्रश्नावली के द्वारा सूचनाओं को कम से कम समय में प्राप्त किया जा सकता है
  • इस प्रवृत्ति को अपनाने में अध्ययन करता पर होने वाला बहुत कम आता है
  • इसके द्वारा दोनों व्यक्तियों का आमने सामने होना आवश्यक नहीं होता
  • प्रश्नावली प्रविधि में सूचना को एकत्रित करना सरल होता है।
  • इसमें सूचना दाता को सूचना देने में स्वतंत्रता रहती है।