Top Indian Andhvishwas And Logic – भारत के लोकप्रिय अंधविश्‍वास

Top Indian Andhvishwas And Logic 

भारत के लोकप्रिय अंधविश्‍वास

Top Indian Andhvishwas And Logic  भारत के लोकप्रिय अंधविश्‍वास

 

आज के इस Top Indian Andhvishwas  वाले आर्टिकल में मैं आपको कुछ ऐसी बातों के बारे में बताने जा रहा हूं जिसे आपने अभी तक अपने जीवन में एक न एक बार तो जरूर सुनी होंगी।

इन बातों को सुनकर आपको बहुत मजा भी आएगा और आपके सोचने की शक्ति भी बढ़ेगी।

तो वह जो बातें मैं आपको आज इस  आर्टिकल में बताऊंगा उनमें से कई बातें और कह सकते हैं अंधविश्वास आप में एक ना एक बार तो घर पर ट्राई किए ही होंगे।

लेकिन मैं आपको आज इस आर्टिकल  मैं उन  Top 7 Indian Andhvishwas के बारे में बताने जा रहा हूं जो India में खूब प्रचलित है और साथ ही इन Andhvishwaso के पीछे लॉजिक क्या हो सकते हैं उनके बारे में भी बताऊंगा।

Indian Andhvishwas No. 1

आप लोग जब भी किसी काम के लिए घर घर से बाहर निकलती होंगे या फिर कोई भी नया काम शुरू करने जाते हैं तो आप लोगों को यह कहा जाता है कि दही चीनी खाकर निकलना चाहिए जिससे आपका काम अच्छे से पूरा हो सके और आप लोगों में से कई लोग ऐसा करते भी होंगे।

Logic behind Andhvishwas

लेकिन दही खाकर घर से बाहर निकलने के पीछे का लॉजिक क्या आपको पता है इंडियन माइथोलॉजी के हिसाब से मैं आपको इसके पीछे का लॉजिक बताता हूं।

गर्म मौसम के कारण दही खाने से पेट में ठंडक रहती है साथ ही दही में चीनी मिलाकर खाने से शरीर में ग्लूकोज की मात्रा बनी रहती है और आप एनर्जेटिक महसूस करते हैं जिससे कि आप जो भी काम करने जा रहे हैं वह अच्छे से पूरा हो सकता है।

Indian Andhvishwas No. 2

आप लोगों में से बहुत लोगों ने यह सुना होगा कि रात में नाखून नहीं काटना चाहिए और आप लोगों से कई बार ऐसा कहा भी जाता होगा रात में नाखून नहीं काटना चाहिए और आप लोग लोगों के कहने पर रात में नाखून नहीं काटते होंगे।

Logic behind Andhvishwas

लेकिन आज मैं आपको बताऊंगा इसके पीछे का लॉजिक क्या हो सकता है।

पुरानी वक्त में बिजली नहीं होने के कारण नाखून नहीं काटे जाते थे उस वक्त नाखून काटने के लिए भी औजारों का इस्तेमाल किया जाता था हमारे पूर्वजों के पास नेल कटर (Nailcutter)  या फिर ऐसे कोई साधन नहीं थे जिससे नाखून आसानी से काटे जा सके।

तो वह लोग उन्हीं के बनाए हुए औजारों से नाखून काटते थे लेकिन बिजली न होने के कारण अंधेरे में उंगलियां कटने का डर होता था जिससे कि वह लोग रात में नाखून नहीं काटते थे।

Indian Andhvishwas No. 3

अब मैं जो आपको बताने जा रहा हूं यह तो 99% लोगों ने किया ही होगा।
आप में से किन किन लोगों ने दरवाजे पर या कोई भी नई चीज आने पर नींबू मिर्ची लटकाए हैं
और आपको इस अंधविश्वास के कारण यह लगता है कि इससे बुरी नजर और बुरी ताकत है आपसे दूर रहेंगे

Logic behind Andhvishwas

लेकिन क्या आपको पता है इसके पीछे लॉजिक क्या हो सकता है।

जब भी आपने वह नींबू मिर्ची को आपके घर के आगे लगाते हैं तो से होता क्या है कि जो भी कीड़े मकोड़े होते हैं वह आपके घर के अंदर नहीं आती क्योंकि नींबू मिर्ची में मौजूद साइट्रिक एसिड उन सब को यानी कि कीड़े मकोड़ों को घर में आने से रोकता है

Indian Andhvishwas No. 4

मंदिर में घंटी बजाना आप लोग भगवान की पूजा करते हो या ना करते हो चाहे आप नास्तिक हो या ना हो लेकिन जब भी आप मंदिर में जाते होंगे तो मंदिर में जो घंटी रहती है उसे जरूर बजाते होंगे और आप लोगों को लगता है कि मंदिर की वह घंटी बजाने से भगवान खुश हो जाते हैं और आपकी मनोकामना को पूरी करते हैं

Logic behind Andhvishwas

लेकिन क्या आपको पता है इसके पीछे कलॉजिक क्या हो सकता है  जब भी आप किसी भी मंदिर में जाते हैं

ज्यादातर मंदिरों में आपको सामी की घंटी लगी मिलती है और तांबे को बजाने से निकलने वाली ध्वनि यानी कि जो आवाज उस घंटी से निकलती है उससे आसपास के बैक्टीरिया मर जाते हैं साथ ही शरीर के सातों केंद्रों को वह घंटी की आवाज़ एक्टिव कर देती है।

Indian Andhvishwas No. 5

बैठ कर खाना खाना जब भी आप खाना खाने बैठते होंगे या खाना खाते होंगे तो आप लोगों से आपके पूर्वज या मां-बाप जरूर कहते होंगे कि नीचे जमीन पर बैठकर खाना खाओ और अगर आप ऐसा नहीं करते होंगे तो आप से नाराज हो जाते होंगे ।

Logic behind Andhvishwas

लेकिन वह आपको ऐसा करने के लिए क्यों कहते हैं उसके पीछे का लॉजिक आपको जानना जरूरी है
तो सुनिए जमीन पर बैठकर खाना खाने से आपकी पाचन क्रिया ज्यादा अच्छा काम करती है

आपका खाना आसानी से पच जाता है इसलिए आपके पूर्वज या आपके परिवार के बड़े सदस्य आपको ऐसा करने के लिए बोलते हैं

Indian Andhvishwas No. 6

आज के टाइम पर बालों की अलग-अलग प्रकार की हेयर स्टाइल आपको खूब देखने को मिलती है लेकिन उसको मेंटेन करने के लिए आप को बाल धोना आवश्यक हो जाता है।

लेकिन क्या आपको पता है आप लोगों ने कई बार ऐसा सुना होगा कि मंगलवार और गुरुवार को बाल नहीं धोना चाहिए

और आप लोगों से आपके पूर्वज या बड़े लोग जो आपसे उम्र में बड़े हैं वह आपसे कहते होंगे कि मंगलवार और गुरुवार को बाल नहीं धोना चाहिए और इसके पीछे जो उसका अंधविश्वास है वह आप जान लीजिए।

आप लोगों से वह लोग कहते होंगे कि इस दिन बाल धोने से बुरे वक्त की शुरुआत हो जाती है यानी कि आपका बुरा टाइम आने लगता है।

Logic behind Andhvishwas

लेकिन मैं आपको आज मंगल और गुरुवार को बाल ना धोने के पीछे का पूरा लॉजिक बताने जा रहा हूं तो ध्यान से सुनिए।
पुराने वक्त में लोग अपने घरों में पानी स्टोर करके रखते थे और बाल धोने में पानी ज्यादा खर्च होता था तो इन दिनों वह लोग बाल नहीं देते थे।

ताकि उनका जो पानी स्टोर किया हुआ है वह बच सके और बाल दोनों में कुछ ज्यादा ही पानी लगता है जिससे कि पानी की बर्बादी ज्यादा होती है।

Indian Andhvishwas No. 7

आप लोगों ने यह हर न्यूज़ चैनल में सुना होगा और आपके परिवारों में भी यह बात उठती ही होगी कि ग्रहण के समय घर से बाहर नहीं निकलना चाहिए और ना ही सूरज की तरफ देखना चाहिए और लोग आपसे कहते होंगे कि ऐसा करने पर यानी कि सूरज की तरफ देखने पर ग्रहण के समय बुरी ताकतें हावी हो जाती है।

Logic behind Andhvishwas

तो आज आप इसके पीछे का लॉजिक जान लीजिए ग्रहण के वक्त सूर्य की किरणों से त्वचा के रोग हो सकते हैं साथ ही नंगी आंखों से उसे देखने से लोग अंधे भी हो सकते हैं।