Notifications
×
Subscribe
Unsubscribe

Thinker – C.H Cooley in Hindi | कौन है सी.एच कूली

Thinker – C.H Cooley in Hindi | कौन है सी.एच कूली

सी.एच कूली

कूली स्वयं और समाज के बीच अंतर्संबंध को मान्यता देते हैं और उन्हें एक साथ पैदा होने के लिए मानते हैं। वह सामाजिक आत्म को स्वयं पर एक उत्पाद के रूप में परिभाषित करता है जैसा कि दूसरों की धारणाओं में परिलक्षित होता है।

इसलिए स्वयं की छवि को समाज के संबंध में ही मूर्त रूप दिया जा सकता है। यह मान्यता मानव कल्पना यानि दिमाग, लुकिंग ग्लास में ही रखी गई है। इस सिद्धांत के तीन महत्वपूर्ण आयाम हैं, दूसरों के सामने अपनी उपस्थिति की कल्पना, दूसरा उस रूप के बारे में दूसरों की कल्पना और तीसरा उस छवि के बारे में व्यक्तिगत भावना रखना।

आर्गेनिक सिद्धांत – Thinker – C.H Cooley in Hindi 

दुर्खीम परंपरा का पालन करते हुए कूली का मानना ​​है कि समाज मूल रूप से जैविक विकास के अनुरूप है और यह प्रगतिशील और लोकतांत्रिक समाज है जो एक एकीकृत संपूर्ण व्यक्ति है। वे दोनों एक दूसरे की निरंतरता और अस्तित्व के लिए अपरिहार्य हैं।

इसलिए उनका मानना ​​है कि अलग-थलग व्यक्ति और गैर व्यक्तिगत समाज मिथक हैं। वह व्यक्ति के महत्व को कम नहीं करता है क्योंकि वह मानता है कि प्रत्येक व्यक्ति का एक जीव के प्रत्येक अंग के समान महत्व है।
प्राथमिक समूह

कूली द्वारा शुरू की गई अवधारणा को आमने-सामने संबंध सहयोग और सुसंगतता की विशेषता है। हम भावना की उपस्थिति जहां समूह में स्वयं को दृढ़ता से एकीकृत किया जाता है उदा। परिवार आदि। इस समूह की तुलना बड़े और अधिक असमान केन्द्रक समूह या द्वितीयक समूह से की जाती है। ट्रेड यूनियन आदि।

महत्वपूर्ण पुस्तकें: Thinker – C.H Cooley in Hindi 

मानव प्रकृति और सामाजिक व्यवस्था
सामाजिक संस्था
सामाजिक प्रक्रिया

  सामाजिक विचलन - कारण एवं विशेषतायें | Social Deviance in Hindi
  संस्कृति की परिभाषा - Definition of culture in Hindi
  समाजीकरण की परिभाषा,विशेषताएं, सिद्धान्त | Samajikaran ki Parivasha
  Bal Apradh ka arth or paribhasha | बाल अपराध का अर्थ और परिभाषा
  अपराध नियंत्रण के 10 उपाय | How to stop crime in Hindi

Leave a Reply

Your email address will not be published.