शहरीकरण क्या है (Essay on Urbanization in Hindi)

#भगवान शिव कि...

शहरीकरण क्या है (Essay on Urbanization in Hindi)

शहरीकरण

समग्र विकास प्रक्रिया के परिचायक के रूप में शहरी विकास देश की राजनीतिक व्यवस्था के दायरे से बाहर नहीं रह सकता। तदनुसार, भारत में राजनेता और सिविल सेवक शहरी संदर्भ में नीति निर्माण प्रक्रिया में सबसे अधिक सक्रिय भूमिका निभाते हैं ।

जबकि भारत नए भारत में बदल रहा है जिससे गहन रूपात्मक परिवर्तनों में से एक शहरीकरण में वृद्धि होगी जो आधुनिकीकरण और औदयोगिकीकरण से निकटता से जुड़ा हुआ है।

शहरीकरण क्या है?

शहरीकरण वास्तव में शहरी बनने की प्रक्रिया है, शहरों मैं जाना, कृषि से अन्य व्यवसायों में परिवर्तन जैसे. व्यापार, विनिर्माण, उद्योग और प्रबंधन एवं व्यवहार पैटर्न मे परिवर्तन आदि। यह अंतर्सबंधों की संपूर्ण प्रणाली में विस्तार की प्रक्रिया है जिसके द्वारा जनसंख्या निवास स्थान में खुद को बनाए रखती है।

शहरीकरण ग्रामीण से शहरी निवास में जनसंख्या के बदलाव को संदर्भित करता है, शहरी क्षेत्रों में रहने वाले लोगों के अनुपात में क्रमिक वृद्धि होती है।

भारतीय शहरीकरण की विशेषताएं:

भारतीय शहर दवितीयक क्षेत्र के का बजाय तृतीयक क्षेत्र के आधार पर अधिक बढ़ रहे हैं। यह बड़ी | 8 ही विडंबना है कि भारत के शहर तृतीयक क्षेत्र के -विकास के परिणामस्वरूप विकसित हुए हैं। संचार क्षेत्र, परिवहन, सेवाओं और निर्माण में वृद्धि भारतीय शहरों के विकास के लिए मुख्य कारक हैं। लेकिन विकसित देशों में विनिर्माण क्षेत्र के कारण शहरों का विकास हुआ।

दक्षिण भारत उत्तरी और पूर्वी भारत की तुलना में अधिक शहरीकृत है। यह ऐतिहासिक, सामाजिक- सांस्कृतिक और शैक्षिक संसाधनों से संबंधित कारकों के व्यापक रूप से उपलब्धता के कारण हुआ है । भारत में वैश्वीकरण की शुरुआत के साथ ही उच्च  ‘एफडीआई और इन राज्यों में विभिन्‍न तरह के उद्योगों की स्थापना के कारण दक्षिण भारत का विकास बहुत अधिक हुआ।

शहरीकरण की प्रक्रिया

परिवर्तन की संरचनात्मक प्रक्रिया के रूप में शहरीकरण आम तौर पर औदयोगीकरण से संबंधित है, लेकिन यह हमेशा औदयोगीकरण का परिणाम नहीं है । शहरों में बड़े पैमाने पर और छोटे पैमाने पर औद्योगिक एवं वाणिज्यिक, वित्तीय और प्रशासनिक व्यवस्था की एकाग्रता, परिवहन और संचार में तकनीकी विकास, सांस्कृतिक और मनोरंजक गतिविधियों के कारण, शहरीकरण होता है।

शहरीकरण आर्थिक विकास का एक अभिन्‍न हिस्सा है, जैसे ही अर्थव्यवस्था विकसित होती है, प्रति व्यक्ति आय में वृद्धि होती है और अर्थव्यवस्था में गैर-कृषि वस्तुओं की मांग भी बढ़ जाती है । आरत के संदर्भ में, शहरीकरण की प्रक्रिया को एक सामाजिक-सांस्कृतिक प्रक्रिया, आर्थिक प्रक्रिया और भौगोलिक प्रक्रिया के रूप में देखा जाता है।  एक सामाजिक-सांस्कृतिक घटना के रूप में: यह विविध जातीय, भाषाई और धार्मिक पृष्ठभूमि

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *