प्लेटो थिंकर इन हिंदी – Biography of Plato in Hindi Jivani

प्लेटो थिंकर इन हिंदी – Biography of Plato in Hindi Jivani

प्लेटो

प्लेटो पहले पश्चिमी दार्शनिक थे जिन्होंने समाज के व्यवस्थित अध्ययन का प्रयास किया। गणतंत्र में प्लेटो और राजनीति में अरस्तू ने सामाजिक संस्थाओं के साथ व्यवस्थित रूप से व्यवहार किया। उन्होंने राज्य और समाज को पर्यायवाची के रूप में स्वीकार किया और व्यक्ति को अपना लिया। प्लेटो को समाज में जैविक सिद्धांत का पहला प्रतिपादक कहा जा सकता है और अरस्तू ने भी इसे स्वीकार किया। इस प्रकार उन्होंने समाज को श्रम विभाजन और सामाजिक असमानता के इर्दगिर्द संरचित एक एकीकृत प्रणाली के रूप में स्वीकार किया।

उन्होंने समाज को समग्र दृष्टि से देखा और राज्य को प्रमुख भूमिका दी। अरस्तू ने सोचा कि समाजों की उत्पत्ति मानव स्वभाव में है और इसकी संरचना में कार्य करने वाले सामाजिक समूह शामिल हैं। उनके विचारों ने वस्तुनिष्ठ कानूनों और ऐतिहासिक प्रक्रियाओं के संदर्भ में समाज की परिभाषा प्रस्तुत की।

  Types Of Culture In Sociology in Hindi
  क्या है अराजकतावाद | Meaning of Anarchism in Hindi
  सामाजिक व्यवस्था | परिभाषा - Social System in Hindi (Sociology)
  समाजीकरण की परिभाषा,विशेषताएं, सिद्धान्त | Samajikaran ki Parivasha

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.